व्यंग्य

पूछ ही बैठे आज मन्नत के धागें भी मुझसे …
कि कब तक इंतजार करे, तेरी खुशनसीबी का हम !

 

Advertisements

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑

%d bloggers like this: