व्यंग्य

तुम्हारा एक पल साथ खरीदने के लिए..

थोड़ी थोड़ी जिंदगी रोज बेचते है हम ……

 

Advertisements

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑

%d bloggers like this: